OIL REFINERIES OF INDIA

🌹RENESHA IAS🌹
BY..... ✍️ RAVI KUMAR... (IAS JPSC UPPSC INTERVIEW FACED)

1. नाहरकटिया-नुनमती-बरौनी पाइपलाइन

यह नहरकटिया तेल क्षेत्र से नुनमती तक कच्चा तेल लाने के लिए भारत में निर्मित पहली पाइपलाइन थी।

इसे बाद में बिहार में बरौनी में रिफाइनरी के लिए कच्चे तेल के परिवहन के लिए बढ़ाया गया था।

👉. 1,167 किमी लंबी 
👉 नहरकटिया और नुनमती के बीच पाइपलाइन 1962 में और नुनमती और बरौनी के बीच 1964 में चालू हो गई थी। बरौनी से कानपुर और हल्दिया तक पाइपलाइन का निर्माण कार्य 1966 में पूरा हुआ था।

2) मुंबई हाई-मुंबई-अंकलेश्वर-कोयली पाइपलाइन:



यह पाइपलाइन मुंबई हाई और गुजरात के तेल क्षेत्रों को कोयली में तेल रिफाइनरी से जोड़ती है। 

👉 210 किमी लंबी डबल पाइपलाइन मुंबई को मुंबई हाई से जोड़ती है।
👉  यह कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस के परिवहन के लिए सुविधाएं प्रदान करता है।
👉  1965 में बनकर तैयार


3. सलाया-कोयली-मथुरा पाइपलाइन

गुजरात के सलाया से यूपी के मथुरा
👉 यह 1,256 किलोमीटर लंबी
👉 जो कोयाली और मथुरा में रिफाइनरियों को कच्चे तेल की आपूर्ति करती है।
👉 मथुरा से, इसे हरियाणा के पानीपत में तेल रिफाइनरी और आगे पंजाब में जालंधर ( Bhatinda) तक विस्तारित
👉 इसमें आयातित कच्चे तेल के लिए एक टर्मिनल है।

4) हजीरा-बीजापुर-जगदीशपुर (एचबीजे) गैस पाइपलाइन


इस पाइपलाइन का निर्माण गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (गेल) द्वारा गैस परिवहन के लिए किया गया है।

👉 1,750 किमी लंबा
👉 महाराष्ट्र में हजीरा को MP में बीजापुर और यूपी में जगदीशपुर से जोड़ता है।
👉 यह कवास (गुजरात), अंता (राजस्थान) और औरैया (यूपी) में तीन बिजली घरों
👉 और छह उर्वरकों को रोजाना 18 मिलियन क्यूबिक मीटर गैस पहुंचाता है।
. बीजापुर, सवाई माधोपुर, जगदीशपुर, शाहजहांपुर, आंवला और बबराला।
👉 प्रत्येक उर्वरक संयंत्र की प्रतिदिन 1,350 टन अमोनिया उत्पादन करने की क्षमता है।
👉यह पाइपलाइन
* 343.7 किमी लंबे चट्टानी क्षेत्र,
* 56.3 किमी लंबे वन क्षेत्र से होकर गुजरती है
* 29 रेलवे क्रॉसिंग और
* 75 बड़ी और छोटी नदियों को पार करती है।

यह दुनिया की सबसे बड़ी भूमिगत पाइपलाइन है और इससे गुजरात, मध्य प्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था में बड़ा बदलाव आया है।

5. जामनगर-लोनी एलपीजी पाइपलाइन

👉 GAIL द्वारा निर्मित
👉 1,269 किलोमीटर लंबी
👉 गुजरात, राजस्थान, हरियाणा और यूपी राज्यों से होकर गुजरता है।
👉. यह दुनिया की सबसे लंबी एलपीजी पाइपलाइन है।
👉 निम्न स्थानों पर गैस निकासी की सुविधा है

* अजमेर और जयपुर (राजस्थान)
* पियाला (हरियाणा)
* मदनपुर खादर (दिल्ली) और
*. लोनी (यूपी) 

6. कांडला-भटिंडा पाइपलाइन

👉 भटिंडा में प्रस्तावित रिफाइनरी तक कच्चे तेल की
ढुलाई के लिए 1,331 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन का निर्माण प्रस्तावित है। 
👉 निर्माण आईओसी द्वारा 



Comments

Popular posts from this blog

IRRIGATION IN JHARKHAND झारखंड में सिंचाई के साधन JPSC PRE PAPER 2 AND JPSC MAINS

मुंडा शासन व्यवस्था JPSC

Multi dimensional poverty index 2023 बहुआयामी निर्धनता सूचकांक 2023