JPSC प्रारम्भिक और मुख्य परीक्षा रणनीति

🌹RENESHA IAS🌹

BY.....

✍️ RAVI KUMAR... (IAS JPSC UPPSC INTERVIEW FACED)
JPSC


JPSC SPECIAL PART 1

Jpsc की तैयारी कैसे करे??


1)झारखंड पेपर को गहराई से अध्ययन करे क्योंकि प्रारंभिक परीक्षा के कुल 400 अंको मे इस पेपर का योगदान 230-240 नंबर का रहेगा.

2)छठी jpsc मे समान्य अध्ययन का पत्र काफ़ी कठिन था. इस कारण  इस पत्र के सभी भागो का अलग अलग अध्ययन करे. किसी बजारु गाइड से आप इस पत्र के प्रश्नों को हल नहीं कर सकते. NCERT के 6-10th तक के पुस्तकों का अध्ययन अावश्यक होगा. 

3)समसामयिकी पर बिशेष ध्यान दे. झारखंड समसामयिकी से भी अनेक प्रश्न छठी jpsc मे पूछे गए थे और प्रश्नों का स्तर तथ्यात्मक था. 

4)मुख्य परीक्षा के लिए साहित्य पत्र चुनने मे सावधानी रखे. छठी jpsc मे खोरठा और  नागपुरिया वाले कुछ अच्छी स्थिति मे है.पर इस बार कौन सा साहित्य पेपर प्रभावी होगा कहना कठिन है. इसलिए अपनी पकड़ वाली साहित्य पत्र ही चुने.  पर जो भी चुने गहराई से अध्ययन करे क्योंकि इस बार हिन्दी साहित्य अंग्रेजी साहित्य मे काफ़ी कम मार्क दिए गए है. गहराई से अध्ययन करने पर अच्छे प्राप्ताँक की संभावना होगी. 

5)सामान्य अध्ययन के शेष पत्रों के कम से कम 50-60% भाग अच्छी तरह से और शेष भाग औसत रूप से जरूर समाप्त कर ले.  इस सम्बन्ध मे विस्तृत रणनीति जल्द ही बताई जाएगी. 

हमारे साथ बने रहे. 

Ravi kumar 

IAS JPSC BPSC SSC


यहां  जेपीएससी मुख्य परीक्षा किस सामान्य अध्ययन के प्रथम पत्र (इतिहास और भूगोल ) के लिए प्रभावी और सटीक रणनीति पर बात करते है............

       🌹 पहले इतिहास पर बात करते हैं🌹


उसी क्रम मे आज प्रस्तुत है इतिहास विषय पर सटीक रणनीति. 

       सामान्य अध्ययन के प्रथम पत्र के खंड का में इतिहास विषय को शामिल किया गया है. इतिहास विषय के कुल 4 उपखंड होंगे. जिस में शामिल है-

A) प्राचीन भारत का इतिहास

B) मध्यकालीन भारत का इतिहास

C) आधुनिक भारत का इतिहास

D) झारखंड का इतिहास

          प्रत्येक खंड से मात्र एक एक प्रश्न पूछे जाएंगे. यही सबसे बड़ी चुनौती है. इन चार प्रश्नों में से किन्ही दो प्रश्नों का उत्तर ही आपको देना है. यानी दो खंडों को बहुत अच्छी तरह से करनी है.

         पाठ्यक्रम को अगर देखा जाए, तो यह बहुत विस्तृत भी नहीं है लेकिन बहुत छोटा भी नहीं है. 

      यहां मैं आपको सलाह दूंगा कि आप इन चारों उपखंडो में से कोई दो उपखण्ड का चयन करें. इसमें से एक उपखंड "झारखंड का इतिहास"अवश्य होना चाहिए.अब दूसरा उपखंड किसे चुना जाये यह यह प्र्श्न उठता है. अगर इतिहास आपका किसी अन्य सिविल सर्विसेज परीक्षा में वैकल्पिक विषय रहा है, तो आप तीनों उपखंडों में से कोई एक चयन कर सकते हैं. अगर इतिहास आपके पृष्ठभूमि नहीं रही है तो आधुनिक भारत के इतिहास को ही चयन करें.

          शेष दो उपखंड जिसका चयन आपने नहीं किया है, उस पर क्या करना है मैं बताता हूं. उसमें से कुछ अत्यधिक महत्वपूर्ण 10 से 15 टॉपिक्स आप अगर अच्छी तरह से लिखित रूप से अभ्यास कर ले.

 प्राचीन भारत का इतिहास 

 इस उपखंड में कुल 11 चैप्टर है. यहां आप सिंधु घाटी सभ्यता, वैदिक सभ्यता,  मौर्य काल, गुप्त काल,  हर्षवर्धन और चोल वंश को अच्छी तरह से अवश्य कर लें. इसमें से क्या-क्या प्रश्न बन सकते हैं इसकी जानकारी प्रारंभिक परीक्षा के परिणाम के बाद बताए जाएंगे.

 गैर चयनित उपखण्ड - L P SHARMA की पुस्तक का अध्ययन कर ले.
चयनित उपखण्ड -के सी श्रीवास्तव 

 मध्यकालीन भारत का इतिहास

 इस उपखण्ड में कुल 8 चैप्टर हैं. इस उपखंड का आपने चयन किया है, तो दिल्ली सल्तनत, मुगल काल, धार्मिक आंदोलन और मराठों के उदय को अवश्य कम्पलीट कर ले.

गैर चयनित उपखण्ड  -L P शर्मा

चयनित उपखण्ड  -     L P SHARMA

आधुनिक भारत का इतिहास 

ये सभवतः झारखण्ड के इतिहास के बाद आपमें से अधिकांश का सबसे फेवरेट उपखण्ड होगा. यहां कुल 10 चैप्टर दिए गए हैं. इसमें से आप यूरोपीय उपनिवेशीकरण की शुरुआत, औपनिवेशिक शासन का विरोध, ब्रिटिश शासन के अंतर्गत भूमि राजस्व प्रशासन, 19वीं सदी में भारत में राष्ट्रवाद का उदय, महात्मा गांधी और जन सामूहिक आंदोलन तथा भारत के विभाजन और उसके परिणाम का अध्ययन कर सकते हैं.

गैर चयनित उपखण्ड -B L ग्रोवर

चयनित उपखण्ड -     B L GROVER+ VIPIN CHANDRA

 

 🌹झारखंड का इतिहास🌹

 इस उपखंड में कुल 6 चैप्टर दिए गए हैं. मेरी सलाह है कि इनमें से किसी भी चैप्टर को आप नहीं छोड़े. इससे संबंधित हर संभावित प्रश्न उत्तर लेखन का अभ्यास अवश्य कर लें. इसके लिए मानक पुस्तकों का तथा इंटरनेट से उपलब्ध सामग्रियों का प्रयोग करें.
           
 प्रत्येक उपखंड से संबंधित अत्यधिक महत्वपूर्ण प्रश्नों का संकलन प्रारंभिक परीक्षा के परिणाम के बाद प्रदान किए जाएंगे.
चयनित - R K TIWARI + internet materials

 भूगोल की रणनीति कल बताई

STAY SAFE 
STAY WITH US 
IAS JPSC BPSC SSC
@renesha.ias

Comments

Popular posts from this blog

IRRIGATION IN JHARKHAND झारखंड में सिंचाई के साधन JPSC PRE PAPER 2 AND JPSC MAINS

मुंडा शासन व्यवस्था JPSC

Multi dimensional poverty index 2023 बहुआयामी निर्धनता सूचकांक 2023